रक्षामंत्री बनते ही निर्मला सीतारमन ने उठाया बड़ा कदम, पाकिस्तान समेत चीन के भी उड़े होश !

हाल ही में हुए केबिनेट विस्तार में पीएम मोदी ने निर्मला सीतारमन को रक्षामंत्रालय की कमान सौंपी  है. निर्मला सीतारमन ने  कहा था कि वो पूरी लगन और मेहनत से अपनी इस जिम्मेदारी  को निभाएंगी. अब रक्षा मंत्रालय से एक बड़ी खबर सामने आ रही है, जिसे देख पाक सेना बड़ी परेशानी में पड़ गयी है.

रक्षा मंत्रालय ने दिया 41 एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टर बनाने का ऑर्डर !

भारतीय सेना को एशिया की सबसे मजबूत सेना बनाने के लिए बड़े पैमाने पर कदम उठाये जा रहे हैं. रक्षा मंत्रालय ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के साथ 6100 करोड़ रुपए का एक करार किया है, जिसके तहत 41 एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर बनाए जाएंगे. इनमें से 40 हेलीकाप्टरों को भारतीय सैन्य कार्यों में लगाया जाएंगा, जबकि एक हेलीकॉप्टर को नौसेना की जरुरतों को ध्यान में रखते हुए बनाया जाएगा.
इन हेलीकॉप्टरों के मिलने से भारतीय सेना की ताकत काफी बढ़ जायेगी. सेना के ऑपरेशन चलाने में इन हेलीकॉप्टरों से काफी सहायता मिलेगी. सेना के जवानों तक हथियार और रसद आसानी से पहुंचाया जा पायेगा. रक्षा मंत्रालय और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के बीच दिल्ली में इस करार पर हस्ताक्षर किए गए हैं.
इस दौरान रक्षा मंत्रालय, भारतीय सेना, नौसेना और एचएएल के अधिकारी मौके पर मौजूद थे. बता दें कि इसी साल मार्च महीने में एचएएल ने भारतीय नौसेना के साथ भी एक करार किया है, जिसके तहत एचएएल के साथ समुद्री सीमा सुरक्षा को लेकर भारतीय नौसेना और भारतीय कोस्ट गार्ड के लिए 32 एडवांस्ड लाइटर हेलीकॉप्टर बनाने का सौदा हुआ है.

चीन से निपटने के लिए सेना की तैयारियां !

भारतीय सेना की ओर से एचएएल को दिया गया ये आर्डर एचएएल की क्षमता और उस पर भरोसे को दर्शाता है. किसी अन्य देश से खरीदने की जगह मेक इन इंडिया अभियान के तहत इन हेलीकॉप्टरों को बनाया जाएगा. जिससे मेक इन इंडिया अभियान को भी काफी तेजी मिलेगी. एचएएल के सीएमडी टी. सुवर्ण राजू ने कहा कि एचएएल के हेलीकॉप्टर काफी वक़्त से भारतीय सेना में तैनात हैं. ऐसे में सेना की ओर से इस तरह का आर्डर मिलने से इन हेलीकॉप्टरों की उपयोगिता का अंदाजा लगाया जा सकता है.
इसे भारतीय सेना की मजबूती बढ़ाने की ओर बड़ा कदम बताया जा रहा है. डोकलाम में चीन के साथ दो महीने तक चले तनाव के बाद भारत अपनी सेना की ताकत बढ़ाने में तेजी से जुट गया है. खासतौर पर चीन को ध्यान में रखकर सेना को मजबूत किया जा रहा है. भारतीय सेना का मानना है कि भविष्य में चीन इसी तरह के विवाद उत्पन्न करता रहेगा. नयी रक्षामंत्री के इरादों को देखते हुए माना जा रहा है कि भारतीय सेना से टकराने से पहले अब दुश्मन सौ बार सोचेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *