विपक्ष ने मानी हार…अगला राष्ट्रपति बीजेपी से…बड़ी पार्टी ने किया समर्थन

दिल्ली(रिपोर्ट अड्डा): एक बार फिर से विरोधी दलों ने अपनी हार मान ली है। पीएम मोदी की चाल के सामने सभी विरोधी दलों ने हाथ जोड़ लिया है। राष्ट्रपति पद का चुनाव जिसके लिए विपक्षी दल एकजुट होने की कोशिश कर रहे थे। उस पद के लिए अब कोई झगड़ा नहीं रह गया है। जी हां कांग्रेस समेत तमाम विरोधी दलों ने मान लिया है कि वो मोदी के आगे नहीं टिक पाएंगे। इसी के साथ ये तय हो गया है कि राषट्रपति भवन में अगला राष्ट्रपति बीजेपी की पसंद का होगा।
दरअसल बीजेपी की इस जीत के पीछे एक बड़ा कारण मोदी की रणनीति है। जिस तरह से विरोधी दल लामबंद हो रहे थे। उस से एक संकेत मिल रहा था कि अब बीजेपी को अपनी रणनीति बदलनी होगी। हालांकि विपक्ष दल लोकसभा चुनाव के बाद से ही एकजुट होने की कोशिश कर रहे हैं। यूपी चुनाव के बाद से तो सभी विरोधियों में खौफ पैदा हो गया था। सभी को लग रहा था कि मोदी इसी तरह से जीत के रथ पर सवार होकर अगली बार भी प्रधानमंत्री न बन जाएं। उनका ये डर तो 2019 में दिखाई देगा।
फिलहाल राष्ट्रपति पद के चुनाव में मोदी और बीजेपी को पटखनी देने के लिए सभी विरोधियों ने कमर कस ली थी। लेकिन सभी की सियासी महत्वकांक्षाएं अलग अलग हैं। इसलिए उनका एक साथ आना संभव नहीं हैं। इन सबके बीच एक विरोधी दल ने बीजेपी से हाथ मिला लिया है। जी हां आंध्र प्रदेश के वाईएसआर कांग्रेस के नेता जगनमोहन रेड्डी ने दिल्ली में पीएम मोदी के साथ मुलाकात की। उसी के बाद राष्ट्रपति पद के चुनाव का समीकरण बीजेपी के पक्ष में झुक गया।
वाईएसआर कांग्रेस ने बीजेपी को समर्थन देने का एलान किया है। इसी के साथ टीआरएस ने भी बीजेपी को समर्थन देने का संकेत दिया है। इन दोनों दलों के साथ आने के बाद अब बीजेपी की राह काफी आसान हो गई है। देश के 12 राज्यों में फिलहाल बहुमत के साथ बीजेपी की सरकार है। ऐसे में अपनी पसंद के उम्मीदवार को चुनाव में जितवाना बीजेपी के लिए बेहद आसान हो गया है। सोनिया, नीतीश ममता, केजरीवाल और लालू जैसे नेता देखते ही रह गए। पीएम मोदी उनकी नाक के नीचे से बाजी मार ले गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *